Wednesday, July 8, 2020
Breaking News
Home / National / कोरोना से प्रभावित होने वाला दुनिया का चौथा देश बना भारत

कोरोना से प्रभावित होने वाला दुनिया का चौथा देश बना भारत

भारत में कोरोना वायरस (कोविड-19) से संक्रमितों की संख्या करीब 2.98 लाख हो गयी है तथा इसके साथ ही देश विश्व में इससे सर्वाधिक प्रभावित देशों की सूची में चौथे स्थान पर पहुंच गया है। अमेरिका की जॉन हॉपंिकस यूनिवर्सिटी के अनुसार विश्व की महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में 20 लाख संक्रमितों के साथ कोरोना वायरस से प्रभावित होने के मामले में पहले नंबर पर, आठ लाख संक्रमितों के साथ ब्राजील दूसरे नंबर पर और पांच लाख मरीजों के साथ रूस दुनियाभर में तीसरे नंबर पर है।
केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अनुसार देश में पिछले 24 घंटों के दौरान 396 लोगों की मौत से मृतकों की संख्या 8498 हो गयी। देश में इस समय कोरोना वायरस के 1,41,842 सक्रिय मामले हैं, जबकि 1,47,195 लोग इस महामारी से निजात पा चुके हैं। देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के सर्वाधिक 10956 नये मामले जिनमें सबसे अधिक महाराष्ट्र में 3607, दिल्ली में 1877, तमिलनाडु में 1875, गुजरात में 511, उत्तर प्रदेश में 478, पश्चिम बंगाल में 389 तथा हरियाणा में 389 लोग संक्रमित पाये गये हैं।
महाराष्ट्र में सर्वाधिक 152, दिल्ली में 101, गुजरात में 38 तथा उत्तर प्रदेश और तमिलनाडु में क्रमश: 24 और 23 लोगों की इसके कारण मौत हुई है।  देश में कोरोना मरीजों के स्वस्थ होने की दर में लगातार इजाफा हो रहा है और अब यह बढ़कर 49.47 प्रतिशत हो गयी है। इस समय देश में कोरोना वायरस से संक्रमित 1,47,194 मरीज ठीक हो चुके हैं तथा 1,41,842 मरीज चिकित्सकों की निगरानी में हैं। पिछले 24 घंटों में देश में कोरोना के 6,166 मरीज ठीक हो गये हैं और कोरोना वायरस के मामलों के दुगुना होने की दर जो लॉकडाउन से पहले 3.4 थी, वह भी अब बढ़कर 17.4 दिन हो गई है।
देश में बुधवार को 1,45,216 नमूनों की कोरोना वायरस की जांच की गयी इससे संक्रमितों की पहचान करने में मदद मिलेगी। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस काफी तेजी से फैल रहा है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि यहां जुलाई के अंत तक कोरोना संक्रमितों की संख्या साढ़े पांच लाख हो सकती है। उच्चतम न्यायालय ने दिल्ली में कोरोना की जांच में कमी पर भी चिंता जताते हुए कहा कि राजधानी में पहले की तुलना में कम जांच हो रही है, जबकि संक्रमण दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है। दिल्ली में कोरोना की जांच प्रतिदिन  सात से घटकर पांच हजार तथा मुंबई में 16000 से बढ़कर 17000 हो गयी है।
कोरोना से असम और बिहार की स्थित भी काफी खराब हुयी है। यहां 24 घंटे में क्रमश: 209 और 273 नये मामले दर्ज किये गये हैं। महाराष्ट्र तथा तमिलाडु के मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाये जाने की खबरों के महज अफवाह करार दिया है। उच्चतम न्यायालय ने लॉकडाउन की अवधि का पूरा  वेतन देने के मामले में नियोक्ताओं और कामगारों के बीच आपसी बातचीत की सलाह देते हुए गृह मंत्रालय के 29 मार्च के आदेश की संवैधानिकता पर हलफनामा दायर करने का शुक्रवार को आदेश दिया।  न्यायालय ने इस बीच नियोक्ताओं के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई न करने का अपना आदेश जारी रखा।
न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति एम आर शाह की खंडपीठ ने कहा कि केंद्र सरकार 29 मार्च के आदेश को लेकर हलफनामा दाखिल करे। न्यायालय ने औद्योगिक समूहों और मजदूर संगठनों को वेतन मुद्दे का हल बातचीत से सुलझाने को कहा। न्यायालय ने कहा कि 54 दिनों के लॉकडाउन की अवधि के वेतन पर सहमति न बने तो श्रम विभाग की मदद ली जाये।