Sunday, December 15, 2019
Breaking News
Home / Politics / गौण्डार, चिलौण व तोषी को यातायात से जोड़ा जायेगाः मुख्यमंत्री

गौण्डार, चिलौण व तोषी को यातायात से जोड़ा जायेगाः मुख्यमंत्री

पंच केदारो में द्वितीय केदार के नाम से विख्यात भगवान मदमहेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली पौराणिक परम्पराओ व रीति-रिवाजों के साथ अपने शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में विराजमान हो गई है। डोली के शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में विराजमान होते ही मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, औद्यौगिक सलाहकार डा0 के एस पंवार सहित सैकड़ों श्रद्धालुओं ने डोली के दर्शन व पूजा अर्चना कर पुण्य अर्जित किया। डोली आगमन पर ऊखीमठ में भव्य मेले का आयोजन किया गया। आज से भगवान मदमहेश्वर की शीतकालीन पूजा का विधिवत शुभारंभ होगा।
इस अवसर पर उपस्थित जनता को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि प्रदेश सरकार हर जन कल्याणकारी योजना का संचालन कर रही है मगर हर युवा को स्वरोजगार की दिशा में स्वयं ही पहल करने होगी जिससे सरकार द्वारा संचालित योजना का लाभ हर युवा को मिल सके। भगवान मदमहेश्वर की चल विग्रह उत्सव के हिमालय से ऊखीमठ आगमन पर लगने वाले त्रिदिवसीय मेले में शिरकत करते हुए कहा कि मदमहेश्वर मेला अपने में आप में भव्य रूप में सजोया हुआ है इस मेले में शामिल होने पर अपार आनन्द की अनुभूति हुई है। उन्होंने कहा कि वर्ष भर मे 365 दिन होते है तथा उत्तराखंड में वर्ष भर में 366 त्योहार मनाये जाते है इसलिए यहां वर्ष भर मेलों का आयोजन होता रहता है। उन्होंने नव निर्वाचित जनप्रतिनिधियों का आवाह्न करते हुए कहा कि विकास कार्यों में किसी प्रकार का भ्रष्टाचार बर्दाश्त नही किया जायेगा। कहा कि यह देवभूमि है यहाँ अतिथि देवो भव से स्वागत किया जाता है इसलिए भ्रष्टाचार करने वाले अधिकारी के खिलाफ  सख्त कार्यवाही की जायेगी। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में प्रदेश के सभी 1200 माध्यमिक विद्यालयो में स्मार्ट कक्षाये शुरू की जायेगी जिससे नौनिहालो का पठन – पाठन सुव्यवस्थित ढंग से संचालित हो सके। कहा कि बोर्डे परीक्षाओं में टाप 25 नौनिहालो के लिए “देश जानो योजना“ शुरू की जा रही है तथा योजना के अन्तर्गत नौनिहालो को देश का भ्रमण करवाया जाएगा। कहा कि नेपाल व चीन सीमा से लगे सीमान्त गाँवो के सर्वांगीण विकास के लिए मुख्यमंत्री सीमान्त योजना शुरू की जा रही है। उन्होंने कहा कि पौडी जनपद के फलस्वाडी गाँव में सीता सर्किट बनाने की योजना तैयार की जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहां कि क्षेत्र की हर समस्या के निराकरण के लिए प्रदेश सरकार गम्भीर है।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने इस अवसर पर घोषणा की कि गौण्डार, चिलौण व तोषी को यातायात से जोड़ा जायेगा और 2022 तक गुप्तकाशी व ऊखीमठ में हर घर में पानी उपलब्ध कराया जायेगा। मुख्यमंत्री ने बाह्मणखोली के लिए दो किमी मोटर मार्ग के लिए भी स्वीकृति प्रदान की।
रविवार को गिरीया गाँव में प्रधान पुजारी बागेश लिंग व वेदपाठी यशोधर मैठाणी ने बह्म बेलापर पंचांग पूजन के तहत भगवान मदमहेश्वर की डोली व साथ चल रहे अनेक देवी – देवताओं के निशाणो की पूजा अर्चना व अभिषेक कर आरती उतारी तथा सैकड़ों श्रद्धालुओं ने भगवान मदमहेश्वर के निर्वाण दर्शन कर पुण्य अर्जित किया। ठीक नौ बजे भगवान मदमहेश्वर की डोली गिरीया गाँव से विदा होकर ऊखीमठ के लिए रवाना हुई तथा सैकड़ों श्रद्धालुओं ने डोली का फापज व सलामी में पुष्प वर्षा कर मन्नत माँगी। सलामी से सैकड़ों श्रद्धालुओं ने जय बोले के उदघोषो के साथ डोली की अगुवाई की। सैकड़ों श्रद्धालुओं की जयकारो व महिलाओ के मागल गीतों से ऊखीमठ क्षेत्र का वातावरण भक्तिमय बना रहा। भगवान मदमहेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली के मंगोलचारी पहुँचने पर रावल भीमा शंकर लिंग ने परम्परा अनुसार डोली पर सोने का छत्र अर्पित किया ग्रामीणों ने अर्घ्य लगाकर विश्व कल्याण की कामना की। भगवान मदमहेश्वर की चल विग्रह उत्सव डोली बाह्मणखोली , डगवाडी में श्रद्धालुओं का आशीष देते हुए अपने शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मन्दिर में पौराणिक परम्परा अनुसार विराजमान हो गई है। डोली के विराजमान होते ही रावल ने मदमहेश्वर धाम के प्रधान पुजारी बागेश लिंग का छ : माह धाम में रहने का संकल्प तुडवाया।
राजकीय इंटर कॉलेज ऊखीमठ में आयोजित त्रिदिवसीय मदमहेश्वर मेले के द्वितीय दिवस का शुभारंभ मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष ने श्री केदारनाथ की प्रतिकृति व मेला समिति और राष्ट्रीय आजीविका मिशन समूह ने मुख्यमंत्री को दोखी व स्थानीय उत्पादो का कलेऊ तथा शाल व स्मृति चिह्न भेंट किया।
मुख्यमंत्री ने सिंचाई विभाग की 288.25 लाख, शिक्षा विभाग की  457.67 लाख, स्वास्थ्य विभाग की 355.95 लाख, क्रीडा विभाग की 250.00 लाख, लोक निर्माण विभाग की 531.26 लाख, पेयजल निगम की 474.99 लाख योग 2358.12 लाख की योजनाओं का शिलान्यास किया। इसके साथ ही, सिंचाई विभाग 5334.24 लाख, शिक्षा विभाग 60.00 लाख, सैनिक कल्याण 48.80 लाख एवं लोक निर्माण विभाग की 298.26 लाख कुल मिलाकर 5741.30 लाख की योजनाओं का शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री ने कुल 8099.42 लाख की योजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया।
केदारनाथ विधायक मनोज रावत ने कहा कि केदारनाथ विधान सभा के अन्तर्गत गौण्डार, चिलौन्ड व तोषी यातायात को यातायात से जोड़ने की बात कही जिसकी घोषणा मुख्यमंत्री द्वारा कर दी गई। पूर्व विधायक आशा नौटियाल ने कहां कि तीन वर्षों के कार्यकाल में प्रदेश सरकार ने ऐतिहासिक कार्य किये है। मेला अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री व सभी अतिथियो के सम्मान में सम्मान व माँग पत्र रखा।
इस अवसर पर औद्यौगिक सलाहकार डा0 के एस पंवार, मन्दिर समिति उपाध्यक्ष अशोक खत्री, जिला पंचायत अध्यक्ष अमरादेई शाह, जिपस विनोद राणा, पूर्व प्रमुख फतेसिंह रावत, नगर पंचायत केदारनाथ अध्यक्ष देवेन्द्र प्रकाश सेमवाल, दिनेश ऊनियाल, राकेश भट्ट, प्रताप सिंह मेवाल, लक्ष्मण सिंह बर्तवाल, दीप राणा, महेन्द्र सिंह नेगी, प्रहलाद सिंह गुसाई, घनानन्द मैठाणी, जगत रामसेमवाल, प्रेम सिंह पुष्वाण, हरीश गुसाई, उमाकान्त वशिष्ठ, कुवरी बर्तवाल, के एस राणा, सूचना महानिदेशक मेहर बान सिंह बिष्ट बिष्ट, जिला अधिकारी मंगेश घिल्डियाल, एस पी अजय सिंह सहित मेला समिति के पदाधिकारी, सदस्य , जनप्रतिनिधि व अधिकारी मौजूद थे।