Sunday, January 26, 2020
Breaking News
Home / National / पहाड़ों से लेकर मैदान तक ठंड का कहर, सर्दी ने तोड़ा 100 साल का रिकॉर्ड

पहाड़ों से लेकर मैदान तक ठंड का कहर, सर्दी ने तोड़ा 100 साल का रिकॉर्ड

 उत्तर भारत में पहाड़ों से लेकर मैदानों तक कड़ाके की ठंड पड़ रही है। हाड़ कंपा देने वाली ठंड में लोग घरों में ही कैद होकर रह गए हैं। ठंड के कारण लोगों को काफी मुश्किलों का सामने करना पड़ रहा है। जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और बिहार सहित अन्य राज्यों में पारा के लुढ़कने और बर्फीली हवा से ठिठुरन बढ़ गई है। ऊंचे पहाड़ी क्षेत्रों में तो पानी की पाइपें जम गई हैं। लोग बर्फ को पीघालकर पानी पी रहे हैं।

 

राजधानी दिल्ली में दिसंबर की सर्दी से राहत नहीं मिलेगी। दिल्ली में ठंड ने पिछले 100 सालों का रिकॉर्ड तोड़ा है। आलम है कि यह 1901 के बाद दूसरी बार हुआ है कि जब साल का आखिरी महीना इतना सर्द रहा हो। गुरुवार को तापमान में चार से सात डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट दर्ज की गई। मौसम विभाग ने कहा कि समूचे उत्तर भारत को कड़ाके की सर्दी से फिलहाल राहत नहीं मिलेगी। उत्तरी भारत में गुरुवार को कड़ाके की ठंड का कहर बरकरार है।

मौसम विभाग ने कहा कि पिछले 24 घंटों के दौरान पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार के कुछ शहरों में तापमान में तेजी से (लगभग चार से सात डिग्री सेल्सियस) गिरावट दर्ज की गई है। पूर्वी उत्तर प्रदेश के बहराइच, लखनऊ, गोरखपुर और वाराणसी तथा बिहार में पूर्णिया, भागलपुर, पटना और गया में दिन का तापमान घटकर 10 से 15 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। इन शहरों में अगले 24 घंटों में सर्वाधिक चार से सात डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट आने का अनुमान व्यक्त किया गया है। इसके अलावा भीषण सर्दी से जूझ रहे दिल्ली, अमृतसर, श्रीगंगानगर, चंडीगढ़ और बरेली सहित अन्य शहरों में गुरुवार को दिन का तापमान आठ से 11 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया।

 

दिल्ली का तापमान
दिल्ली में न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया तथा अधिकतम तापमान 13.4 डिग्री सेल्सियस रहा, जो कि सामान्य से सात डिग्री सेल्सियस कम है। दिल्ली में लगातार 13वें दिन कड़ाके की सर्दी पड़ रही है और इससे पहले 1997 में ऐसा हुआ था तब लगातार 17 दिन कड़ाके की सर्दी पड़ी थी। भारतीय मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा, ” दिसंबर में औसत अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से कम 1919, 1929,1961 और 1997 में रहा है। दिसंबर के आखिरी महीने में इस साल औसत अधिकतम तापमान अब तक 19.85 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया और यह दिसंबर 31 तक 19.15 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाने की संभावना है। अधिकारी ने कहा, ” अगर ऐसा होता है तो यह 1901 के बाद दूसरा सबसे सर्द दिसंबर होगा।

 

राजस्थान में रात का तापमान 5 डिग्री सेल्सियस
राजस्थान में कई स्थानों पर रात का तापमान एक डिग्री सेल्सियस से पांच डिग्री सेल्सियस तक रहा है। शेखावटी अंचल में सर्दी जोरों पर है। सीकर जिले में गुरुवार को पारा जमाव बिन्दु पर पहुंच गया। शेखावटी क्षेत्र में चुरू, सीकर, झुंझनू जिले और निकटतम क्षेत्र आते हैं। राजस्थान के एक मात्र पर्वतीय पर्यटन क्षेत्र माउंट आबू में तापमान एक डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। चुरू, वनस्थली, बीकानेर, गंगानगर और अजमेर में रात का तापमान क्रमश: 1.3, 3.2, 3.7, 3.9 और 5.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

हरियाणा में हिसार का तामपना न्यूनयतम 3.3, पंजाब में बठिंडा सबसे ठंडा
हरियाणा में नारनौल का न्यूनतम तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस रहा जबकि हिसार का न्यूनतम 3.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पंजाब में बठिंडा सबसे ठंडा स्थान रहा जहां तापमान चार डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। फरीदकोट, लुधियाना, पटियाला, हल्वारा, आदमपुर, पठानकोट,अमृतसर में क्रमश: 4.5, 6.6, 6.4, 5.8, 6.8, 6.4 और 6.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। दोनों राज्यों की संयुक्त राजधानी चंडीगढ़ में तापमान 6.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

 

जम्मू में दिन का तापमान 9.8 डिग्री सेल्सियस
अंबाला में दिन का तापमान आठ, चंडीगढ़ में 8.6 श्रीगंगानगर में 9, जम्मू में 9.8 और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बरेली में 10.4 डिग्री सेल्सियस रहा।

बारिश की संभावना 
तेलंगाना, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, ओडिशा, झारखंड, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और कर्नाटक के कुछ इलाकों में हल्की से छिटपुट बारिश की संभावना है, जबकि अरुणाचल प्रदेश के कुछ इलाकों में बारिश और बर्फबारी हो सकती है।

 

द्रास में तापमान शून्य से मानइस 30.2  डिग्री सेल्सियस कम
कारगिल जिले का द्रास में गुरुवार को शून्य से 30.2 डिग्री सेल्सियस कम तापमान के साथ जम्मू-कश्मीर सबसे ठंडा स्थान रहा।

नैनीताल में नव वर्ष पर बर्फबारी के आसार
नैनीताल में 22 साल बाद नए साल पर बर्फबारी के आसार बन रहे हैं। इस दौरान शहर के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी और निचले इलाकों में हिमकण गिर सकते हैं। इससे पहले 1997 में नए साल पर पर्यटकों को बर्फबारी देखने को मिली थी। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक इस बार पहली जनवरी को पारा 1-2 डिग्री तक पहुंच सकता है।