Friday, August 18, 2017
Breaking News
Home / International / यहां मर्डर करने की है खुली छूट, सरकार देती है 7 हजार रुपए

यहां मर्डर करने की है खुली छूट, सरकार देती है 7 हजार रुपए

फिलीपीन्स में प्रेसिडेंट रोड्रिगो ड्यूट्रेट ने पुलिस से लेकर आम जनता को ड्रग डीलर्स को जान से मारने की खुली छूट दे रखी है। यहां ड्रग डीलर्स की हत्या करने वाले को 100 डॉलर (करीब 7 हजार रुपए) दिया जाता है। नतीजा ये हुआ है कि जुलाई से अब तक 6000 से ज्यादा संदिग्ध ड्रग डीलर्स मारे जा चुके हैं। वहीं, 70 हजार से ज्यादा लोग सरेंडर कर चुके हैं। इसके बाद भी कत्लेआम का सिलसिला जारी है।

यूएन इसे मानवाधिकार हनन का मामला बता रहा है, लेकिन प्रेसिडेंट रोड्रिगो ने साफ कह दिया है कि उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। अब यहां के लोगों ने भी राष्ट्रपति के फैसले पर रिएक्शन देना शुरू किया है। ड्रग्स से जूझ रहे देश को आजाद कराने के लिए रोड्रिगो ने प्रेसिडेंट बनते ही कहा था कि ज्जब तक आखिरी ड्रग माफिया और फाइनेंसर नहीं पकड़ा जाता, तब तक ये जंग जारी रहेगी।’

टोंडो जिले में रहने वाली रोसालिना पेरेज कहती हैं.. सरकार का फैसला ठीक है, लेकिन इसके चलते बेकसूर भी मारे जा रहे हैं। मर्डर से पहले पूछताछ की जानी चाहिए। इसकी आड़ में लोग अपने दुश्मनों को भी निशाना बना रहे हैं, जो गलत है।

क्वेजन सिटी के स्लम एरिया में रहने वाली 36 साल की वेंग रुदा कहती हैं.. च्सरकार का फैसला बुरा नहीं है, लेकिन इसका असर बच्चों पर पड़ रहा है। कई पैरेंट्स डर के मारे घरों से नहीं निकलते और बच्चों को अकेले भी स्कूल जाना पड़ता है। इसके अलावा उन्हें बीच सड़क पर अक्सर लाशें दिखाई दे जाती हैं, जिससे वे डर जाते हैं।ज्

पुलिस ऑफिसर रोनाल्डो डेविड के मुताबिक, च्सरकार के इस फैसले से पुलिस स्टेशन में क्राइम के बहुत कम मामले दर्ज हो रहे हैं। इसके चलते अब मैं अपने इलाके के गरीब इलाकों में जाकर बच्चों को पढ़ाने और अन्य लोगों को जागरूक करने का काम कर पा रहा हूं।

नावोतास सिटी में रहने और ताबूत बनाने वाले ओरली फर्नांडीज भी सरकार के फैसले से सहमत हैं। इसके अलावा उनकी कमाई भी बढ़ गई है। पहले जहां रोजाना एकाद ताबूत के ऑर्डर आते थे, अब वहीं दो-तीन ताबूत के ऑर्डर आ रहे हैं।

मनीला में फूड रेस्टोरेंट चलाने वाली फेलिसिदाद मागदायो कहती हैं… च्बिजनेस पर इसका असर हुआ है। क्योंकि, लोग डर के मारे घरों से नहीं निकल रहे। पहले की तुलना में यहां बहुत कम लोग आ रहे हैं, लेकिन यह अच्छी बात है कि ड्रग डीलर और एडिक्ट कम हो रहे हैं।ज्

कैथोलिक प्रीस्ट और पूर्व ड्रग्स एडिक्ट बॉबी डेला क्रूज कहते हैं, मैं सरकार के फैसले के खिलाफ नहीं हूं। लेकिन, मेरा कहना है कि ड्रग्स एडिक्ट खुद अपनी जिंदगी से भी लड़ रहा होता है। उन्हें मारने से अच्छा है सही रास्ते पर लाने की कोशिश करना। हमें उनकी मदद करनी चाहिए।

क्वेजन सिटी में रहने वाली स्टूडेंट किमी एनसिसो के मुताबिक, हमारे प्रेसिडेंट का फैसला सही है। उनका यह फैसला आने वाली पीढ़ी के लिए फायदेमंद होगा। ड्रग्स से छुटकारा मिलने से क्राइम में भी कमी आ रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *