Monday, September 24, 2018
Breaking News
Home / STATE NEWS / Uttar Pradesh / Lucknow / यूपी की राजनीति में आया भूचाल,मायावती की उम्मीदों पर पानी फेरेगा उनका ही ये सीडी बम

यूपी की राजनीति में आया भूचाल,मायावती की उम्मीदों पर पानी फेरेगा उनका ही ये सीडी बम

बिलारी से टिकट कटने के बाद पूर्व बसपा नेता अनिल चौधरी ने बसपा पर चार करोड़ रूपए लेकर टिकट काटने का आरोप लगाया है। प्रेस वार्ता के दौरान बसपा से घोषित प्रत्याशी अनिल चौधरी ने कहा कि अखबार के माध्यम से पता चला कि टिकट काटने के साथ-साथ उन्हें पार्टी से भी निष्कासित कर दिया गया है, जबकि पार्टी से कोई भी लिखित व मौखिक सूचना पार्टी के किसी भी कार्यकर्ता के माध्यम से उन्हें नहीं दी गयी है।

उन्होंने बताया कि 23 अगस्त को विधानसभा बिलारी में एक महाजनसभा मुरादाबाद हाईवे निकट कैम्प कार्यालय पर होने जा रही है। जिसमें बसपा के खिलाफ एक सीडी को सार्वजनिक किया जाएगा। इसी दौरान वे अपनी अगली रणनीति तय करेंगे। उन्होंने कहा कि विधानसभा का हर वर्ग उन्हें विधानसभा चुनाव लड़ने की सलाह दे रहा है।

उन्होंने बताया कि पार्टी के वरिष्ठ नेताओं में पार्टी अध्यक्ष को गुमराह कर बिलारी विधानसभा का टिकट चार करोड़ में बेच दिया है, जबकि मैंने बसपा पार्टी में बड़ी मेहनत और वफादारी से कार्य किया है। टिकट के फेरबदल को लेकर पार्टी में बड़े पैमाने पर पैसे का लेन-देन चलता है जिसका खुलासा सीडी के माध्यम से आगामी 23 अगस्त को आम जनता के सामने पेश किया जायेगा। पार्टी पैसा लेकर दलित वोटों का सौदा कर रही है, जिससे आने वाले समय में पार्टी को भारी नुकसान उठाना पडेगा।

इससे पूर्व भी बसपा पार्टी द्वारा 9 अक्टूबर 2011 को बिलारी विधानसभा का टिकट दिया गया था और 15 जनवरी 2012 को टिकट काट दिया गया। जिसका खामियाजा पार्टी को हार के साथ भुगतना पडा। 6 जून 2015 को दोबारा बसपा पार्टी द्वारा विधानसभा का प्रत्याशी घोषित कर दिया गया, लेकिन 10 अगस्त 2016 को दोबारा टिकट काटकर फिर एक बड़ी भूल की है। उन्होंने बताया कि बसपा के वरिष्ठ नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने घोषणा की थी कि बिलारी विधानसभा का टिकट इस बार नहीं बदला जायेगा। मगर पैसे के लेन-देन में बसपा पार्टी ने चार करोड़ लेकर टिकट बदल दिया, जिसका खामियाजा आने वाले चुनाव में पार्टी को उठाना पडे़गा।

वहीं इधर अनिल चौधरी का टिकट काटने के बाद उनके समर्थन में कई और बसपाइयों ने भी इस्तीफा दे दिया है। विधानसभा अध्यक्ष वीरसिंह गौतम ने भी अपने समर्थकों के साथ इस्तीफा दे दिया है और कहा कि वे अनिल चौधरी के साथ खड़े हैं। दलित समाज को धोखे में रखकर अनिल चौधरी का टिकट काटा गया है। बसपा को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। जबकि कई और कार्यकर्ता व नेता 23 अगस्त की रैली के बाद बसपा छोड़ सकते हैं। ऐसे कयास लगाये जा रहे हैं। उधर बसपा नेताओं ने अनिल चौधरी के इन अरोपों पर अभी कुछ भी कहने से इनकार कर दिया है।