Sunday, September 23, 2018
Breaking News
Home / National / सरकार बनाने के लिए गठबंधनों के खिलाफ हूं : प्रणब मुखर्जी

सरकार बनाने के लिए गठबंधनों के खिलाफ हूं : प्रणब मुखर्जी

ऐसे वक्त जब भाजपा के खिलाफ कांग्रेस एक गठबंधन बनाने की कोशिश कर रही है,पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने महज सरकार बनाने की खातिर गठजोड़ किए जाने के खिलाफ दलील दी और जोर देते हुए कहा कि ऐसी कोशिशें कांग्रेस पार्टी की पहचान को सिर्फ कमतर करेंगी।
अपनी नई पुस्तक, द कोलिशन इयर्स :1996 टू 2012   में मुखर्जी ने कहा है कि उन्होंने  2004 के आम चुनाव में भाजपा को हराने के लिए 2003 में गठबंधन बनाने के कांग्रेस के फैसले का समर्थन नहीं किया था। उन्होंने कहा कि उनका विचार आज भी नहीं बदला है। राष्ट्रपति बनने से पहले कांग्रेस में लंबी पारी निभाने वाले मुखर्जी ने एकला चलो की रणनीति  की हिमायत करते हुए कहा कि कांग्रेस एकमात्र इसी तरीके से अपनी पहचान अक्षुण्ण रख सकती है.
भाजपा को हराने के लिए धर्मनिरपेक्ष पार्टियों का गठबंधन बनाने के बारे में शिमला सम्मेलन में लिए गए कांग्रेस के फैसले का जिक्र करते हुए मुखर्जी ने कहा कि गठबंधन बनाने के लिए विकल्प खुले रखने का मुद्दा पंचमढी सम्मेलन से निश्चित तौर पर अपना रुख बदलना था। दरअसल, पंचमढी सम्मेलन में हम इस बात पर सहमत हुए थे कि जहां बिल्कुल जरुरी होगा, गठबंधन पर विचार किया जाएगा।
मुखर्जी ने पुस्तक में कहा है, शिमला में सभी प्रतिनिधियों की राय मांगी गई और सुनी गई। सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह सहित उनमें से ज्यादातर इस बात पर सहमत दिखे कि पंचमढी रणनीति को बदलना होगा। मैं अकेला व्यक्ति था, जिसने अलग विचार रखा था क्योंकि मेरा मानना था कि अन्य पार्टियों के साथ मंच या सत्ता साङोदारी करना हमारी पहचान को कमतर कर देगा।