Friday, June 22, 2018
Breaking News
Home / Politics / नेपाल के पीएम बोले, पंतनगर विवि के साथ मिल कर नेपाल कृषि विवि नए आयाम स्थापित करेगा

नेपाल के पीएम बोले, पंतनगर विवि के साथ मिल कर नेपाल कृषि विवि नए आयाम स्थापित करेगा

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने भारत-नेपाल के पुराने संबंधों को नई ताकत देने की जरूरत बताई। कहा कि, दोनों देश एक दूसरे की जनता की खुशहाली और गरीबी दूर करने के लिए मिलकर काम करेंगे। खासकर, कृषि क्षेत्र के विकास में संयुक्त प्रयास नई भूमिका निभाएगा।

इससे पहले नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली रविवार सुबह 11:45 बजे पंतनगर एयरपोर्ट पर उतरे। राज्यपाल केके पॉल व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने नेपाल के प्रधानमंत्री केपीएस ओली का बुके देकर स्वागत किया। परंपरागत कुमाऊं के रीति रिवाज के तहत प्रधानमंत्री केपीएस ओली का स्वागत किया गया। प्रधानमंत्री के सम्मान में कलाकारों ने छोलिया नृत्य एयरपोर्ट पर प्रस्तुत किया। इसके उनका काफिला पंतनगर विवि के लिए रवाना हो गया।

ओली अपनी धर्मपत्नी राधिका शाक्य और नेपाल के 33 सदस्यीय दल के साथ उत्तराखंड दौरे पर आए हुए हैं। उनकी इस यात्रा का मकसद दोनों देशों के बीच कृषि तकनीक के आदान-प्रदान को बढ़ाना है। रविवार को गोविंद बल्लभ पंत कृषि विवि, पंतनगर के गांधी हॉल में राज्यपाल केके पाल ने उन्हें विज्ञान वारिधि की मानद उपाधि से सम्मानित किया।

समारोह को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ओली ने कहा कि हमारी धार्मिक आस्थाएं एक-दूसरे के साथ हैं। नेपाल की जनता भी भारत के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलना चाहती है। पीएम ओली ने कहा कि नेपाल की दो तिहाई जनसंख्या कृषि पर निर्भर है, लेकिन  आधुनिकीकरण एवं यांत्रिकीकरण में काफी पीछे हैं। हमारे दो कृषि विवि हैं, लेकिन वे अभी प्रारंभिक अवस्था में हैं। उन्हें मजबूती प्रदान करने के लिए पंतनगर विवि का सहयोग लिया जाएगा।

जीबी पंत कृषि विवि के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि यहां बहुत कुछ सीखने को है। बोले, विवि ने जो सम्मान उनको दिया, वह उनके लिए नई प्रेरणा का काम करेगा। उन्होंने कहा कि भारत ने जो पहल की है, नेपाल उसमें अपना पूरा योगदान देगा। इससे पहले ओली ने विवि के ब्रीडर सीड्स प्रोसेसिंग यूनिट और बीज अनुसंधान केंद्र का निरीक्षण किया।

अध्यक्षीय संबोधन में राज्यपाल डॉ. केके पॉल ने कहा कि नेपाल एवं उत्तराखंड इतिहास, संस्कृति, व्यापार के साथ-साथ अन्य बहुत सी समानताएं रखते हैं। चुनौतियां भी एक जैसी हैं तथा दोनों मिलकर अपने लोगों की बेहतरी, वातावरण सुरक्षा एवं प्राकृतिक संसाधनों की सुरक्षा के लिए काम कर सकते हैं। उन्होंने नेपाल एवं उत्तराखंड की समान परिस्थितियों को देखते आपसी सहयोग के पांच बिंदुओं का उल्लेख किया।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि दोनों में गर्भनाल जैसे संबंध हैं और खान-पान, रहन-सहन, रिश्ते-नाते जुड़े हुए हैं। हम भौतिक व मानसिक रूप से भी एक-दूसरे के नजदीक हैं। पंतनगर विवि नेपाल सरकार के साथ मिलकर औद्यानिकी व औषधीय फसलों के क्षेत्रों में कार्य कर सकता है।