Thursday, February 22, 2018
Breaking News
Home / Prime News / हत्याकांड का हुआ खुलासा मां ने अपनी बेटी को बेरहमी से था मारा

हत्याकांड का हुआ खुलासा मां ने अपनी बेटी को बेरहमी से था मारा

देहरादून में 21 वर्षीय प्राप्ति सिंह की नृशंस हत्या करने वाली सौतेली मां मीनू कौर को पुलिस ने शनिवार को मजिस्ट्रेट से समक्ष पेश किया। जहां से उसे 14 दिन की न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया है। पुलिस हत्या की सटीक वजह जानने में जुटी हुई है। मौटे तौर पर पुलिस की जांच दो एंगल पर चल रही है। पहला ये कि मृतक प्राप्ति सिंह के नाम करोड़ों की प्रॉपर्टी थी। सौतेली मां का मकसद प्रॉपर्टी पर कब्जा जमाना था, लेकिन वह खुद सालाखों के पीछे पहुंच गयी। दूसरी ये कि आरोपी महिला का कहना है कि सौतेली बेटी उसकी इज्जत नहीं करती थी, इसलिए उसने उसे मार डाला।

पुलिस जांच में खुलासा हुआ है कि सौतेली मां और बेटी के बीच हमेशा से ही तल्खी भरे रिश्ते रहे। प्राप्ति के पिता की मौत के बाद मां-बेटी में यह तल्खी और भी बढ़ गई। क्योंकि पिता अपनी संपत्ति को पूरी तरह बेटी के नाम कर गए थे। इसके बाद तो आए दिन झगड़े होते रहे। हर बात पर मां की टीका-टिप्पणी के बीच बेटी भी जवाब देनी लगी थी। प्राप्ति की अपनी मां की मौत के बाद उसके पति अजीत पाल ने 21 साल पहले दीपनगर की रहने वाली मीनू कौर से शादी की थी। अजीत पाल प्रॉपर्टी डीलर थे। देहरादून के पलटन बाजार से सटे अंसारी मार्ग पर घर के अलावा किशननगर चौक पर भी उनका प्लॉट है।

पुलिस उनकी और संपत्तियों की तलाश कर रही है। पुलिस का कहना है कि मीनू कौर ने प्राप्ति को हमेशा से ही सौतेली बेटी के तौर पर पाला। यह बात अजीत को भी चुभती थी। परिवार के लोग कहते हैं कि प्राप्ति को लेकर पहले पति-पत्नी में भी झगड़ा होता था। इधर, पिता ने अपनी पूरी संपत्ति बेटी के नाम कर दी। इसका पता मीनू को उनकी मौत के बाद चला। इसके बाद मां-बेटी में बात-बात पर झगड़ा होता रहा। होश संभालने के बाद प्राप्ति ने कभी भी अपने फैसले में मां को शामिल नहीं किया और यह बात उसके अखरती थी। उधर, मृतका प्राप्ति सिंह की बुआ तृप्ति सखूजा ने शनिवार को नगर कोतवाली पहुंचकर अपनी भाभी यानी हत्यारोपी मीनू कौर के खिलाफ मुकदमा दर्ज करवाया है।

हत्यारोपी मां बोली- इज्जत नहीं करती थी बेटी, इसलिए मारा 

देहरादून कोतवाली के इंस्पेक्टर बीबीडी जुयाल ने बताया कि आरोपी महिला का एक ही बात कहना है कि प्राप्ति उसे इज्जत नहीं देती थी। जिसके चलते वे मानसिक मौर पर परेशान हो गई थी। यही वजह थी कि उसकी हत्या कर दी। वहीं एसएसपी निवेदिता कुकरेती ने बताया कि पुलिस सभी पहलूओं को गंभीरता से लेकर जांच पड़ताल कर रही है। पता चला कि किराये की दुकान से प्रतिमाह करीब 30-35 हजार रुपये मिलता था। शनिवार और रविवार की वजह से बैंक दो दिन बंद रहेंगे। ऐसे में सोमवार को पुलिस मां और बेटी के खाते के बारे में बैंक से जानकारियां जुटाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *