Monday, September 24, 2018
Breaking News
Home / STATE NEWS / Chandigarh / राम रहीम के गुरु से ‘रॉक स्टार बाबा’ बनने की कहानी, जानिए डेरा चीफ से जुड़ी ये बातें

राम रहीम के गुरु से ‘रॉक स्टार बाबा’ बनने की कहानी, जानिए डेरा चीफ से जुड़ी ये बातें

बाबा ने सबसे पहली फिल्म ‘एमएसजी-द मैसेंजर’ फरवरी 2015 में रिलीज की थी। हालांकि इसको लेकर पंजाब में विरोध हुआ, लेकिन आसपास के राज्यों में इसे खूब पसंद किया गया। इसके बाद ‘एमएसएजी-2’, ‘एमएसजी-ऑनलाइन गुरुकुल’, ‘एमएसजी-द वारियर लायन हार्ट’, ‘हिन्द का नापाक को जवाब’ और मई 217 को उनकी फिल्म ‘जाटू इंजीनियर’ आईं। इन फिल्मों  में बाबा ने एक्टिंग की और गाने भी गाए।
साल 2017 में गुरमीत राम रहीम को बेस्ट एक्टर का अवार्ड मिला। यह अवार्ड उन्हें उनकी फिल्मों में किए गए बेहतरीन अभिनय के लिए दिया गया। 6 फरवरी 2017 की शाम को मुम्बई के अंधेरी स्थित होटल पेनिनसुला ग्रैंड में आयोजित तीसरे ब्राइट अवॉडर्स में उन्हें यह अवार्ड दिया गया। इससे पहले उन्हें दादा साहब फिल्म फाउंडेशन अवार्ड से नवाजा जा चुका है।वहीं राम रहीम अपनी फिल्मों में गीत खुद ही लिखते हैं और गाते भी खुद ही हैं। गीत और नृत्य के साथ राम रहीम सिंह का रिश्ता 6 वर्ष पहले तब शुरू हुआ, जब उन्होंने अपना पहला रू-ब-रू रॉक सेशन का मंचन अक्तूबर 2011 में किया। बाबा अपने गीत खुद लिखते हैं और सभी गीतों का संगीत भी खुद ही तैयार करते हैं।

कौन हैं राम रहीम ?
गुरमीत राम रहीम का जन्म 15 अगस्त, 1967 को राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के गुरुसर मोदिया में जाट सिख परिवार में हुआ था। जब ये सात साल के थे तो 31 मार्च, 1974 को तत्कालीन डेरा प्रमुख शाह सतनाम सिंह ने इन्हें नाम दिया था। 23 सितंबर, 1990 को शाह सतनाम सिंह ने देशभर से अनुयायियों का सत्संग बुलाया और गुरमीत राम रहीम सिंह को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया।

1948 में हुई डेरे की स्थापना
डेरा सच्चा सौदा की स्थापना 1948 में शाह मस्ताना महाराज ने की थी। अब तक पूरे देश में डेरा के 50 से ज्यादा आश्रम हैं। शाह मस्ताना महाराज के बाद डेरा के गद्दीनशीन शाह सतनाम महाराज बने और उन्होंने साल 1990 में अपने अनुयायी संत गुरमीत सिंह को गद्दी सौंप दी। इसके बाद संत गुरमीत राम का नाम संत गुरमीत राम रहीम सिंह इंसा कर दिया गया। डेरा प्रमुख के जन्मदिन पर सत्संग और समारोह किए जाते हैं। बीती 15 अगस्त को गुरमीत 50 साल के हो गए।

ये है गुरमीत राम रहीम का परिवार
इस रॉक स्टार बाबा की तीन बेटियां हैं, जिनमें से एक उन्होंने गोद ली थी और एक बेटा है। हनीप्रीत इंसा को गुरमीत ने गोद लिया था। एमएसजी-2 में हनीप्रीत ने डायरेक्शन भी किया था। चरणप्रीत सिंह इनकी बड़ी बेटी है और उसकी शादी शान-ए-मीत से हुई है। अमनप्रीत इंसा छोटी बेटी है और उसकी शादी रूह-ए-मीत इंसा से हुई है। बेटा जसमीत इंसा गुरमीत के कामकाज देखता है और उसकी शादी बठिंडा के पूर्व विधायक हरमिंदर सिंह जस्सी की बेटी हुस्नमीत इंसा से हुई है।