Friday, June 22, 2018
Breaking News
Home / National / कावेरी मुद्दे पर शीर्ष न्यायालय के फैसले पर जल्द अमल हो : CM नारायणसामी

कावेरी मुद्दे पर शीर्ष न्यायालय के फैसले पर जल्द अमल हो : CM नारायणसामी

पुडुचेरी के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वी नारायणसामी ने शनिवार को कहा कि कावेरी जल विवाद के मुद्दे पर केंद्र सरकार ने यदि उच्चतम न्यायालय के फैसले को लागू करने में देरी की तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे. उन्होंने दावा किया कि फैसले में कहा गया है कि छह हफ्ते के भीतर कावेरी जल प्रबंधन बोर्ड का गठन किया जाए और अब इसका गठन किया जाना चाहिए. नारायणसामी ने कहा कि केंद्र ने यदि बोर्ड और नियामक आयोग का गठन नहीं किया तो उसे अदालत की अवमानना की स्थिति का सामना करना होगा. उन्होंने कर्नाटक सरकार पर भी कावेरी जल विवाद के मुद्दे पर टालने वाला रवैया अपनाने का आरोप लगाया.

केंद्र कर रहा अदालत की अवमानना
मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने 25 फरवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पुडुचेरी यात्रा के दौरान उन्हें एक पत्र सौंपकर अनुरोध किया था कि जल प्रबंधन बोर्ड का गठन किया जाए. उन्होंने कहा कि मेरे ज्ञापन के जवाब में मुझे अब तक प्रधानमंत्री का कोई जवाब नहीं मिला है. नारायणसामी ने कहा कि यदि उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन नहीं किया जाता है तो यह अदालत की अवमानना होगी. आपको बता दें कि केंद्रीय जल संसाधन मंत्रालय के सचिव यूपी सिंह ने शुक्रवार को नई दिल्ली में एक बैठक में कहा था कि उच्चतम न्यायालय ने (अपने आदेश में) कावेरी प्रबंधन बोर्ड शब्द का इस्तेमाल नहीं किया है, यह बुनियादी तौर पर एक स्कीम (व्यवस्था) है. यह वही चीज हो सकती है, जिसके बारे में न्यायाधिकरण ने कहा था.

न्यायालय ने की बोर्ड बनाने की बात
वहीं तमिलनाडु सरकार ने दावा किया कि कावेरी मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय ने 16 फरवरी के अपने आदेश में कावेरी प्रबंधन बोर्ड और एक अन्य निकाय के गठन की तरफ इशारा किया था. राज्य सरकार की ओर से जारी एक विज्ञप्ति के मुताबिक, एक ऐसा संगठन बनाने की बात कही गई है, जो कावेरी जल विवाद न्यायाधिकरण के अंतिम निर्णय एवं उच्चतम न्यायालय के फैसले को लागू करेगा. तमिलनाडु सरकार ने यह बयान तब दिया है जब मंत्रालय के सचिव ने बयान दिया कि शीर्ष न्यायालय ने इन बोर्डों के बारे में कोई जिक्र नहीं किया है.