Saturday, October 20, 2018
Breaking News
Home / Prime News / प्रकृति के साथ समन्वय बनाते हुए करने चाहिए विकास कार्य : पियूष गोयल

प्रकृति के साथ समन्वय बनाते हुए करने चाहिए विकास कार्य : पियूष गोयल

प्रदेश में प्रथम इन्वेस्टर सम्मिट के प्रथम सत्र इंफ्रास्ट्रक्चर पर बोलते हुए केंद्रीय रेल एवं कोयला मंत्री पियूष गोयल ने समिट आयोजित करने के लिए राज्य सरकार की सराहना की उन्होंने कहा कि उत्तराखंड प्राकृतिक सुंदरता से परिपूर्ण है यहां पर्यटन उद्योग की अपार संभावनाएं हैं उनका हमें प्रकृति के साथ समन्वय बनाते हुए विकास कार्य करने चाहिए ताकि प्रदेश की प्राकृतिक सुंदरता बनी रहे रेल मंत्री ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन के साथ ही फूड प्रोसेसिंग आईटी उद्योग लगाए जाए ,ताकि युवा वर्ग इसका लाभ उठा सकें वह प्लान भी रुकेगा उन्होंने कहा कि पर्यटकों को आकर्षण करने हेतु प्रदेश में सड़क हवाई रेल सेवाओं के साथ ही सुचार विद्युत पेयजल नेट कनेक्टिविटी स्वच्छता आदि ब्यवस्था अति महत्वपूर्ण है ।
रेल मंत्री ने कहा कि चार धाम को रेल लाइन से जोड़ने में लगभग 40 हजार करोड़ की लागत की संभावना है प्रथम चरण में ऋषिकेश से  रेल लाइन जोड़ने का कार्य किया जाएगा । संबोधित करते हुए प्रदेश के वित्त मंत्री प्रकाश पंत ने कहा कि समिट आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य प्रदेश में उद्योग निवेश बढ़ाने के साथ ही कार्य प्रगति जनता के बीच देखना है  पंत ने कहा कि सरकार प्रदेश में सड़क रेल हवाई आज सुविधाएं मुहैया कराने के साथ ही पर्यटन रोजगार को बढ़ा देने के लिए प्रतिबद्ध है उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार के सहयोग से उड़ान योजना के अंतर्गत प्रदेश में 40 हेलीपैड बनाए जाएंगे प्रदेश में उद्योग लगाने हेतु निवेशकों को आमंत्रित करते हुए उनका आह्वान किया कार्यक्रम को अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश, सचिव ट्रांसपोर्ट शैलेश बगोली शैलेश पाठक डॉक्टर बीपी शर्मा एचएस वाधवा अभय कृष्ण अग्रवाल द्वारा संबोधित किया गया।