Friday, October 19, 2018
Breaking News
Home / Prime News / उत्तराखंड में है राष्ट्रवाद और देशभक्ति की परंपरा : सीएम त्रिवेंद्र

उत्तराखंड में है राष्ट्रवाद और देशभक्ति की परंपरा : सीएम त्रिवेंद्र

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड देवभूमि ही नहीं वीर भूमि भी है. यहां के सैनिकों ने देश की सीमाओं की रक्षा के लिए अदम्य साहस का परिचय दिया है. रानीखेत में नरसिंह मैदान में उपस्थित पूर्व सैनिकों को सम्बोधित करते हुए रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड में राष्ट्रवाद व देशभक्ति की परम्परा रही है. यहां के जवानों की रग-रग में ‘मैं से पहले देश’ का भाव है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्व सैनिकों सहित सैनिक आश्रितों के लिए राज्य सरकार ने अनेक महत्वाकांक्षी योजनाएं चलाने का निर्णय लिया है. वीर सैनिकों और शहीदों के आश्रितों को सरकारी नौकरी सहित जिला स्तर पर को-आपरेटिव समूह बनाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. ग्रामीण क्षेत्रों में होम स्टे योजना चलाई जा रही है. इसके माध्यम से पूर्व सैनिको को पर्यटन से जोड़ने का प्रयास किया जा रहा है.

वनाग्नि को रोकने और भूतपूर्व सैनिकों व युवाओं को स्वावलम्बन की ओर अग्रसर करने के लिए पिरूल नीति लागू की गई है. पिरूल से विद्युत उत्पादन भी किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि यदि ढाई नाली जमीन किसी के पास है तो वह अपनी जमीन में इस उद्योग को स्थापित कर विद्युत उत्पादन कर सकता है साथ ही 10-12 लोगों को रोज़गार भी मुहैया कर सकता है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि छावनी परिक्षेत्र सहित रानीखेत के आसपास के क्षेत्र में पेयजल समस्या से निजात दिलाने के लिए रानीखेत में कोसी-भुजान पेयजल पम्पिंग योजना तैयार की जा रही है. इस योजना की डीपीआर तैयार कर ली गई है जिसकी लागत 60 करोड़ रुपये है जिसमें 13 करोड़ सेना द्वारा दिया जाएगा शेष 47 करोड़ रुपये राज्य सरकार वहन करेगी.


मुख्यमंत्री ने कहा कि भूतपूर्व सैनिकों की समस्याओं के निदान के लिए सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गए हैं. देहरादून की तर्ज पर हल्द्वानी में भी सेना के सहयोग से एक छात्रावास बनाया जाएगा जिसमें सैनिकों एवं उनके आश्रितों के बच्चों को अच्छी शिक्षा सुविधा प्रदान की जाएगी.

इस अवसर पर मसूरी के विधायक और भूतपूर्व सैनिक गणेश जोशी ने कहा कि मुख्यमंत्री हमेशा सैनिकों की समस्याओं के निदान के लिए तत्पर रहते हैं. उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा चलायी जा रही योजनाओं का लाभ उठाने की बात कही. इस अवसर पर सेना के कर्नल ऑफ द रजिमेंट लेफ़्टिनेंट जनरल बीएस सहरावत ने भी सम्बोधित किया.

कार्यक्रम में कर्नल नीरज सूद, शौर्य चक्र कार्यवाहक उप कमांडेट केआरसी एवं टीबीसी प्रशिक्षण बटालियन, लेफ़्टिनेंट कर्नल नक्षत्र भंडारी, जीएसओ 1 (प्रशिक्षण) लेफ़्टिनेंट कर्नल विजय नरसिम्हन, शिक्षा अधिकारी, केन्द्र के सभी सैन्य अधिकारी, सूबेदार मेजर, जेसीओ, सैनिकों सहित नव प्रशिक्षुओं के परिजन, ज़िलाधिकारी  इवा आशीष श्रीवास्तव, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी रेणुका देवी, संयुक्त मजिस्ट्रेट हिमांशु खुराना, अपर जिलाधिकारी केएस टोलिया, उपज़िलाधिकारी रजा अब्बास, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट सहित अन्य गणमान्य लोग व सैन्य अधिकारी उपस्थित थे.