Friday, October 19, 2018
Breaking News
Home / National / मलकीयत का हक ना होने से महिलाओं की आर्थिक तरक्की नहीं: सीएम

मलकीयत का हक ना होने से महिलाओं की आर्थिक तरक्की नहीं: सीएम

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ओएनजीसी के केडीएमपीई सभागार में भारतीय कृषि और खाद्य परिषद की तरफ से आयोजित प्रोग्रैसिव फारमर्ज कन्वैंशन में शामिल हुए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि राज्य की खेती बाड़ी को संभालने वाली महिलाएं ही हैं लेकिन उनके पास मलकियत का हक नहीं होने से उनकी आर्थिक तरक्की नहीं हो रही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के किसानों की हालत बेहतर नहीं है। विशेष तौर पर महिला किसान तो बहुत कष्टपूर्ण जीवन व्यतीत कर रही हैं। महिलाएं सारी खेतीबाड़ी संभालती है लेकिन जमीन का स्वामित्व उनका नहीं है। इसलिए सब कुछ करने पर भी वह दरिद्रता के दुष्चक्र से बाहर नहीं निकल पाती है। बैंक में उन्हें ऋण नहीं देते है।

सीएम ने कहा कि राज्य के ग्रामीण इलाकों में निवास करने वाले लोगों की वित्तीय हैसियत बहुत कमजोर है। उनकी क्रय क्षमता बहुत ही कम है। इसलिए सरकार ग्रामीण इलाकों में व्यवसायिकता को बढ़ाने का काम कर रही है। ग्रामीण इलाके आर्थिक संवृद्धि के केंद्र बनेंगे। इसके लिए 150 करोड़ रूपए का कोष बनाया गया है। उन्होंने किसानों का आह्वान किया कि वह व्यवसायिक बनें। उन्होंने कहा कि व्यवसायिक सोच अपनाए बिना आर्थिक खुशहाली नहीं आ सकती।